द्वारका में प्रस्तावित हज हाउस के विरोध के बाद तुर्कमान गेट हज मंजिल को पांच मंजिला बनाने की शुरू हुई कवायद

हिन्दुस्थान समाचार/एम ओवैस

नई दिल्ली : राजधानी के द्वारका में  प्रस्तावित हज हाउस के विवादित होने के बाद अब तुर्कमान गेट स्थित हज मंजिल को लेकर एक नई योजना पर काम किया जा रहा है। दिल्ली राज्य हज कमेटी के तरफ से दिल्ली सरकार को एक प्रस्ताव भेजा गया है जिसमें कहा गया है कि हज मंजिल का मालिकाना हक दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड से लेकर लोक निर्माण विभाग के सुपुर्द किया जाए और लोक निर्माण विभाग यहां पर नए सिरे से हज मंजिल के पुनर्विकास की योजना बनाकर उस पर काम शुरू करे।


दिल्ली सरकार ने द्वारका सेक्टर 22 में हज हाउस के निर्माण के लिए योजना बनाई है लेकिन स्थानीय रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन और कुछ हिंदुत्ववादी संगठनों ने हज हाउस के निर्माण का विरोध करना शुरू कर दिया है।द्वारका में हज हाउस के निर्माण के विरोध को देखते हुए दिल्ली राज्य हज कमेटी ने दिल्ली सरकार को एक नया प्रस्ताव भेजा है। इस प्रस्ताव के तहत वर्तमान हज मंजिल का पुनर्विकास करने और वहां पर अतिरिक्त तीन और मंजिलों का निर्माण कराने की योजना बनाई जा रही है। बताया जा रहा है कि हज मंजिल का मालिकाना हक फिलहाल दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड के पास है।बोर्ड अपनी आमदनी के लिए हज मंजिल के बेसमेंट और फर्स्ट फ्लोर को शादी आदि समारोह के लिए बुकिंग करता है जिसकी वजह से यह दोनों फ्लोर हज सीजन के अलावा बोर्ड के पास रहते हैं। दिल्ली राज्य हज कमेटी के पास फिलहाल महज फर्स्ट फ्लोर है।इसके अलावा दिल्ली राज्य उर्स कमेटी के पास सेकंड फ्लोर मौजूद है। हज कमेटी की तरफ से दिल्ली सरकार को भेजे गए प्रस्ताव के अनुसार हज मंजिल को पांच मंजिला बनाए जाने की बात कही जा रही है। कमेटी का मानना है कि अगर सरकार की तरफ से इस प्रस्ताव पर अमल किया जाता है तो दिल्ली और आसपास के हज यात्रियों को यहां पर ठहराने और उन्हें एयरपोर्ट भेजने में काफी आसानी हो जाएगी। इसके अलावा हज मंजिल को अगर दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड से लेकर लोक निर्माण विभाग के सुपुर्द कर दिया जाएगा तो यहां पर ग्राउंड फ्लोर और फर्स्ट फ्लोर भी हज कमेटी के कंट्रोल में आ जाएगा जिसका हज कमेटी सही तरीके से इस्तेमाल कर पाएगी। हालांकि अभी यह प्रस्ताव कमेटी के तरफ से सरकार को भेजा गया है जिस पर सरकार के दो मंत्रालयों की तरफ से इस पर चर्चा करने के बाद फैसला किया जाएगा।संभावना जताई जा रही है कि सरकार को अगर यह प्रस्ताव पसंद आया तो हज मंजिल के पुनर्निर्माण और विस्तार की कार्य योजना को जल्द ही अमलीजामा पहनाया जाएगा।इसके साथ ही अगर द्वारका में हज हाउस का निर्माण संभव हो पाता है तो उसका इस्तेमाल हज यात्रा के समय ट्रांजिट कैंप के तौर पर किया जा सकता है क्योंकि यहां से हज यात्रियों को बोर्डिंग पास आदि देकर एयरपोर्ट प्रांगण में सीधे तौर से ले जाया जा सकता है। हवाई अड्डा प्राधिकरण ने दिल्ली सरकार को इसीलिए यहां पर हज हाउस बनाने के लिए कहा था। यहां से यात्रियों को सीधे एयरपोर्ट लाने के लिए किसी तरह की कोई मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी।प्रस्तावित हज हाउस के बगल में ही है एयरपोर्ट की दीवार है और यहां से एक रास्ता बना कर यात्रियों को एयरपोर्ट लाने ले जाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

0 comments

Leave a Reply